म्योरपुर वन रेंज के जंगल में धड़ल्ले से काटे जा रहे कत्था व सागौन के पेड़

तेज एक्सप्रेस न्यूज़

म्योरपुर/ संदीप अग्रहरि/ अमित रावत

करकोरी के जंगल में विगत एक माह में काटे गए एक दर्जन से ज्यादा कीमती पेड़

उप्र के जनपद सोनभद्र के वन प्रभाग रेणुकूट के म्योरपुर वन क्षेत्र गढ़िया व करकोरी ,हरहोरी गांव में हरियाली के दुश्मन दिनदहाड़े हरे पेड़ों पर आरा चला हैं। दर्जनों सागौन के पेड़ काटे गए जिसके चलते सरकार और सामाजिक संस्थाओं द्वारा पौधरोपण कर पर्यावरण संरक्षण के प्रयास बेमानी साबित ही रहे हैं।वहीं ग्रामीणों का कहना है कि इन दिनों बेसिक कीमती सागौन व कत्था के पेड़ की इस अवैध को रोकने के जिम्मेदार वन विभाग वन माफियाओं से मिले हैं अथवा बेफिक्र हैं। माफिया सागौन व अन्य लकड़ी को काटकर ले जा रहे हैं। जंगल में जगह-जगह सागौन, कत्था की लकड़ियां ठूठो हैं। उन्होंने बताया कि दिन में वन माफिया के लोग जंगल में कटाई करते हैं शहरों में बेच देते हैंबताया कि एक ओर शासन द्वारा जंगलों की सुरक्षा के लिए वन कर्मचारियों को तैनात किया गया है लेकिन वन विभाग के कर्मचारी ही वन माफियों से मिलकर जंगलों का सफाया करने में जुटे हुए हैं। यदि वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा अब भी ध्यान नहीं दिया गया तो जंगलों की जगह केवल वीरान जगह ही नजर आएगी।मामला सोनभद्र जनपद के म्योरपुर वन रेंज के गाड़ियां करकोरी गांव का है। यहां सागौन प्रतिबन्धित प्रजाति के हरे पेड़ बैटरी चालित आरा से काटे जा रहे हैं नतीजा यह है कि कभी चारों तरफ दिखने वाली हरियाली और बाग-बगीचे धीरे-धीरे वीरान होते जा रहे हैं। इस सन्दर्भ में जब वन विभाग के एस डी ओ मनमोहन मिश्र से बात की गयी तो उन्होंने बताया की इस समय मै छूट्टी पर हूँ आते ही मौके पर जाकर इसकी जाँच करूँगा और कटान मिलने पर संबंधितों पर कड़ी कार्यवाही की जायेगी।

5 Views