जान जोखिम में डाल पार कर रहे रेलवे ट्रैक

तेज़ एक्सप्रेस न्यूज़ – इब्राहिम / अमित

दुद्धी / सोनभद्र

दुद्धी के बियार टोला होकर जपला ,पिपराही ग़ांव जाने वाले सैकड़ो ग़ांव के ग्रामीण हर दिन अपना जान जोखिम में डालकर रेलवे ट्रैक पार कर शहर की ओर आते है ।और शहर से अपने ग़ांव वापस लौटते है ।जपला और पिपराही ग़ांव के ग्रामीण मनोज कुमार पांडेय , चंदन भारती ,चंदेश्वर , संतोष पांडेय ,शिवलाल ,गुड्डू मियां , संदीप कुमार लोगों का कहना है कि रेलवे के दोहरीकरण होने के कारण आने जाने के लिए पूर्व में बने रेलवे के पुलिया के रास्ते से होकर ग़ांव के ग्रामीण आते जाते थे लेकिन रेलवे के दोहरीकरण होने के कारण आने जाने वाले पुलिया के सामने बड़े बड़े गड्ढे कर रास्तो को गड्ढे में तब्दील कर दिया गया है जिसके चलते उस पुलिया मार्ग से ग़ांव के ग्रामीण आना जाना बंद कर दिए है ।अब ग़ांव के ग्रामीण जान जोखिम में डालकर पैदल और साइकिल ,मोटरसाइकिल से दिन हो या रात रेलवे ट्रैक क्रास होकर आने जाने के लिए विवश हो गए है।किसी दिन रेलवे ट्रैक क्रास करते समय कोई भी बड़ा हादसा हो सकता है ।ग़ांव के सुखनी देवी ,अख्तर अली , अक्षय कुमार ,भरत कुमार संजय भारती , सोनू भारती , सत्यनारायण प्रमिला देवी ,माया देवी आदि ग्रामीणों ने रेलवे प्रशासन को पत्र लिखकर पुराने पुलिया से आने जाने वाले गड्ढे के रास्तों को समतल कराए जाने की मांग किया है जिससे से ग़ांव के सैकड़ो ग्रामीणों को आने जाने के लिए सुगम रास्ता मिल सके ।नहीं तो ग़ांव के ग्रामीण आंदोलन की चेतावनी दी है ।

4 Views