सुविधा देने की बजाय बहुत से यात्री प्रतीक्षालय अतिक्रमण की भेंट चढ़ गए हैं

तेज़ एक्सप्रेस न्यूज़/ अशोक केशरी

चंदौली।चंदौली जनपद में जगह जगह बनाये गए बसों व यात्रियों के ठहराव के मुकम्मल प्रबंध को लेकर शासन भले ही गंभीर हो और करोड़ों रुपये खर्च किए जा रहे, लेकिन जिम्मेदारों की उदासीनता राहगीरों पर भारी पड़ रही। सुविधा देने की बजाय बहुत से यात्री प्रतीक्षालय अतिक्रमण की भेंट चढ़ गए हैं। अतिक्रमणकारियों ने कहीं गोशाला तो कहीं रैन बसेरा बना लिया। इससे सड़क किनारे तेज धूप में खड़ा होकर यात्री साधनों का इंतजार करना पड़ता है।
यात्रा पर निकलने वालों को धूप, बरसात की मुश्किलों से बचाने के लिए इलाके के तिराहे-चौराहों पर यात्री प्रतीक्षालय बनाया गया। जिला पंचायत ने राज्य वित्त योजना अंतर्गत तीन लाख रुपये की लागत से रामशाला तिराहे पर यात्री प्रतीक्षालय बनवाया। यहां यात्रियों की चहल पहल बढ़ गई। शहर व गांव के रहवासी यहां से बस, जीप, आटो में सवार होकर गंतव्य को रवाना होते थे। पैदल चलने वाले राहगीर यहां ठहर कर राहत महसूस किया करते थे। लेकिन मौजूदा समय में यात्री शेड को बाकायदा ईट से घेरा कर बसेरा बना लिया गया। इससे लोगों को मुश्किलों से दो-चार होना पड़ रहा है। कमोवेश यही हाल अर्जीखुद, ढुन्नू, बनरसिया, बेन गांव के तिराहे पर बने यात्री प्रतीक्षालयों का है। रहवासी राजकुमार, श्याम नारायण, श्रीप्रसाद, मुन्ना, लवकुश ने कहा प्रशासन के उपेक्षात्मक रवैया के चलते अतिक्रमण का दायरा लगातार बढ़ता जा रहा। यही हाल रहा तो भविष्य में उनके औचित्य पर संकट खड़ा हो जाएगा। ”सार्वजनिक परिसंपत्तियों पर अतिक्रमण गैरकानूनी है। तहसील प्रशासन की मौजूदगी में अभियान चलाकर अतिक्रमण हटवाया जाता है। रामशाला तिराहे के यात्री प्रतीक्षालय पर कब्जे की शिकायत मिली है। उसे शीघ्र हटवा दिया जाएगा।’

4 Views