व्यापक स्तर पर मनाया गया संविधान दिवस न्यायालय परिसर स्थित बार रूम में हुआ जिला स्तरीय कार्यक्रम 

तेज़ एक्सप्रेस न्यूज़ – प्रदीप पाल
हनुमानगढ़ / राजस्थान

संविधान दिवस मंगलवार को जिले भर में व्यापक स्तर पर मनाया गया। जिला स्तरीय कार्यक्रम न्यायालय परिसर स्थित बार रूम में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, बार संघ, प्रशासन व पुलिस की ओर से संयुक्त रूप से आयोजित किया गया। जिसमें संविधान के महत्वपूर्ण तथ्यों पर प्रकाश डाला गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला एवं सेशन न्यायाधीश एव अध्यक्ष, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण ज्ञानप्रकाश गुप्ता ने की। मुख्य अतिथि जिला कलक्टर जाकिर हुसैन, विशिष्ट अतिथि पुलिस अधीक्षक श्रीमती राशि डोगरा थी। इस कार्यक्रम में एनडीपीएस जज विरेन्द्र कुमार जसूजा, पोक्सो जज मशरूर आलम खान, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सुश्री आशा चौधरी, एमजेएम श्रीमती अनुभूति मिश्रा, ग्राम न्यायाधिकारी सुश्री सुमन चौधरी, सीएमएचओ अरूण कुमार,सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी सुरेश बिश्नोई, एडीईओ रणवीर शर्मा, बार संघ अध्यक्ष जितेन्द्र सारस्वत व अधिवक्तागण उपस्थित थे। मंच संचालन अधिवक्ता रमेश मोदी द्वारा किया गया।
जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष ज्ञानप्रकाश गुप्ता ने संविधान के विभिन्न प्रावधानों को विस्तृत रूप से बताया। संविधान अंगीकृत करने के बावजूद देरी से क्यों लागू हुआ, इसका कारण बताया और प्रत्येक नागरिक द्वारा मौलिक कर्तव्यों की पालना किये जाने के लिए आह्वान किया। उन्होंने संविधान के प्रावधानों की पालना करने की सभी को शपथ दिलाई। मुख्य अतिथि जिला कलक्टर जाकिर हुसैन ने वर्तमान हालात व देश की विभिन्नताओं को एक सूत्र में पिरोने के लिए संविधान के प्रावधानों की पालना करने और संविधान के प्रति आस्था रखने की बात कही। विशिष्ट अतिथि श्रीमती राशि डोगरा एस.पी. ने संविधान के महत्वपूर्ण बिंदुओं पर प्रकाश डाला और संविधान को उसकी भावना के अनुरूप आत्मसार करने की बात कही।
स्थाई लोक अदालत के अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने पं. ज्वाहरलाल नेहरू का परिचय देते हुए संविधान के प्रस्तावना की पूर्ण रूप से व्याख्या की। संविधान के प्रति संसद का योगदान के बारे में बताया तथा यह कहा कि यदि संविधान अच्छा है, परन्तु लोग बुरे है तो संविधान सही रूप से कार्य नहीं करेगा और यदि संविधान बुरा है और उसे लागू करने वाले लोग सही है तो बुरा संविधान भी अच्छा संविधान बन जायेगा। सतपाल लिम्बा, अधिवक्ता ने मूल कर्तव्यों के बारे में बताते हुए हमारे आस-पास साफ-सफाई रखना भी हमारा कर्तव्य है, के बारे में बताया। शंकर सोनी, अधिवक्ता ने अभिव्यक्ति के अधिकार के बारे में बताया। महावीर स्वामी ने संविधान लागू होने से पूर्व के प्रशासन के बारे में बताते हुए वर्तमान में लागू संविधान के बारे में बताया। कार्यक्रम के अंत में सुश्री आशा चौधरी, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट व बार संघ सचिव योगेश झोरड़ द्वारा उपस्थित अधिकारीगण एवं अधिवक्तागण को धन्यावाद ज्ञापित किया गया और अंत में सभी ने शपथ पत्र पर हस्ताक्षर किये। उसके पश्चात् माननीय डीजे साहब द्वारा उक्त कार्यक्रम में संविधान से संबंधित प्रश्नोत्तरी का आयोजन किया गया।
इससे पहले कार्यक्रम की शुरूआत जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव विजय प्रकाश सोनी ने संविधान दिवस की पूरी रूपरेखा बताते हुए की । उन्होने बताया कि 29 नवंबर 1949 को संविधान सभा द्वारा संविधान को अंगीकृत करने के 70वें वर्षगांठ के अवसर पर भारत सरकार ,सर्वोच्च न्यायालय, राजस्थान सरकार, राजस्थान उच्च न्यायालय और राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार संविधान दिवस को सभी के साथ जिला स्तर पर कार्यक्रम आयोजित करके मनाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि संविधान दिवस के 70वीं वर्षगांठ होने के कारण दिनांक 26.11.2019 से 02.12.2019 तक विशेष सप्ताह का आयोजन किया जाएगा, जिसमें पैनल अधिवक्ता, पीएलवी, विधि के विद्यार्थी, एनजीओ, न्यायिक अधिकारी, लीगल लिटरेसी क्लब के इंचार्ज, विधिक सेवा क्लिनिक पर स्थित इंचार्ज, शिक्षक, ग्राम सचिव आदि विभिन्न माध्यमों के जरिये संविधान की प्रस्तावना व मूल कर्तव्यों का वाचन करके संविधान की मुख्य विशेषताओं को बताकर व्यापक व वृहद स्तर पर संविधान दिवस को मनाया जाना है। संविधान की प्रस्तावना व मूल कर्तव्यों और संविधान के बनने की रूपरेखा व भूमिका व इतिहास के बारे में विस्तृत रूप से बताया।
संविधान दिवस पर रैली का आयोजन- जिला स्तरीय कार्यक्रम के बाद न्यायालय परिसर में ही मदान इन्टरनेशनल स्कूल के विद्यार्थियों द्वारा रैली का आयोजन किया गया और नारे लगाये गए। इस अवसर पर संविधान की पालना करने की शपथ ली और हस्ताक्षर किये। रैली में शामिल विद्यार्थियों को न्यायालय की प्रक्रिया और जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के कार्यक्षेत्र व किये जाने वाले कार्यों की जानकारी दी गई।
न्यायाधीशों ने स्कूल में जाकर संविधान की प्रस्तावना और मूल कर्त्तव्यों के बारे में बताया- संविधान दिवस के अवसर पर विभिन्न न्यायिक अधिकारियों ने स्कूलों में जाकर संविधान की प्रस्तावना व मूल कर्तव्यों के बारे में बताया व संविधान की पालना की शपथ दिलाई। एडीजे नं. 2 सत्यपाल वर्मा ने सेठ हंसराज स्कूल में, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सुश्री आशा चौधरी ने नेशनल पब्लिक स्कूल, एमजेएम श्रीमती अनुभूमि मिश्रा ने संस्कार इंटरनेशनल स्कूल में जाकर, एएमजेएम सुश्री राधिका सिंह चारण ने अमृत मॉडल कॉन्वेट स्कूल में जाकर और ग्राम न्यायालय की न्यायाधिकारी सुश्री सुमन चौधरी ने लिटिल हार्ट पब्लिक स्कूल में जाकर संविधान की प्रस्तावना व मूल कर्तव्यों के बारे में बताया। इसके अलावा पैनल अधिवक्ता व पीएलवी ने भी स्कूल, कॉलेज, शैक्षणिक संस्थाओं, पंचायत समिति, ग्राम पंचायत में जाकर संविधान के प्रति व्यक्तियों की आस्था बनाये रखने और संविधान दिवस पर प्रकाश डाला। छात्रावास में भी यह कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव श्री विजय प्रकाश सोनी ने बताया कि इस प्रकार के कार्यक्रमों के जरिये 2 लाख व्यक्ति तक पहुंचने का लक्ष्य रखा है।
9 Views