कोरोना काल में भी कम नहीं हुई साईं के प्रति श्रद्धा, LOCKDOWN में भक्तों ने दान किए इतने करोड़ रुपये

कोरोना वैक्सीन के प्रयोग के लिए राजस्थान के इस पुलिसकर्मी ने शरीर दान की जताई इच्छा

भारतीय वैज्ञानिकों ने किया कोरोना के सबसे खतरनाक रूप का खुलासा, A2a टाइप में बदला

कोरोना महामारी का अंधकार मिटाने के लिए आज दीप जलाएगा देश, पीएम मोदी ने की थी अपील

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश वीडियो संदेश में कहा था कि कोरोना के अंधकार को प्रकाश की ताकत से हराने की जरूरत है. इसके लिए प्रधानमंत्री ने लोगों से रविवार को रात नौ बजे नौ मिनट तक दीया जलाने की अपील की.
देश में कोरोना वायरस का संकट बढ़ता जा रहा है. संकट के इस वक्त में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से एकजुटता का संदेश देने के लिए 5 अप्रैल को लाइटें बंद रखने का आह्वान किया. ऐसे में देश की जनता भी आज रात दीया, मोमबत्ती और मोबाइल की फ्लैश लाइट जलाकर एकजुटता दिखाने को तैयार है.
कोरोना संकट के चलते देश में 21 दिनों तक लागू किए गए लॉकडाउन के दौरान शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को वीडियो संदेश दिया था. प्रधानमंत्री ने देशवासियों से अपील करते हुए कहा कि कोरोना के अंधकार को प्रकाश की ताकत से हराने की जरूरत है. इसके लिए प्रधानमंत्री ने लोगों से रविवार को रात नौ बजे नौ मिनट तक दीया जलाने की अपील की, इसका मकसद एकजुटता का संदेश देने से है.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपील की थी कि 5 अप्रैल रविवार को रात नौ बजे नौ मिनट के लिए लोग अपने घरों की लाइटें बंद करें और दरवाजे-खिड़की पर खड़े होकर दीया, मोमबत्ती जलाएं या फिर मोबाइल की फ्लैश लाइट-टॉर्च से रोशनी करें. इस शक्ति के जरिए हम ये संदेश देना चाहते हैं कि देशवासी एकजुट हैं. पीएम ने कहा कि एकजुटता के दमपर ही इस महामारी को मात दी जा सकती है.
ग्रिड के संतुलन के लिए पर्याप्त उपाय

हालांकि ऐसी आशंका जताई जा रही थी कि एक ही समय में एक साथ लाइटें बंद होने और 9 मिनट बाद फिर से चालू होने से बिजली ग्रिड में परेशानी आ सकती है. इस मामले पर केंद्रीय ऊर्जा मंत्रालय का कहना है कि ग्रिड के संतुलन के लिए पर्याप्त उपाय किए गए हैं.
साथ ही ऊर्जा मंत्रालय ने स्पष्ट किया है कि स्ट्रीट लाइट बंद नहीं की जाएंगी. घरों के अन्य उपकरण बंद करने की जरूरत नहीं है. एसी, टीवी, फ्रिज इन सब को बंद करने की आवश्यकता नहीं है. केवल लाइट ही बंद करनी है. अस्पतालों और अन्य आवश्यक जगहों पर लाइटें जलती रहेंगी.
जनता कर्फ्यू पर थाली बजाने का किया था आह्वान

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता कर्फ्यू का आह्वान किया था. पीएम मोदी ने अपील की थी कि 22 मार्च को जनता कर्फ्यू के दिन शाम को पांच बजे कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ रहे कोरोना कमांडोज के लिए थाली जरूर बजाएं. उस दौरान भी पूरे देश ने एकजुटता दिखाई थी और कोरोना कमांडोज के लिए ताली-थाली बजाई थी.

कोरोना ने तोड़ी अमेरिका की कमर, डोनाल्ड ट्रंप ने PM मोदी से मांगी मदद

दुनिया में कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा मरीज अमेरिका में हैं. अमेरिका में तीन लाख से ज्यादा लोग इस वायरस की चपेट में आ चुके हैं. वहीं अमेरिका में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 8 हजार से ज्यादा है.
कोरोना वायरस ने दुनिया में कोहराम मचा रखा है. कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा मामले अमेरिका में सामने आए हैं और अमेरिका में लगातार कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है. इस बीच अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मदद मांगी है और हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन टेबलेट्स मुहैया कराने का अनुरोध किया है.
चीन के वुहान से फैले कोरोना वायरस ने अमेरिका में सबसे ज्यादा लोगों को अपनी चपेट में लिया है. अमेरिका में कोरोना वायरस से तीन लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं. वहीं अमेरिका में कोरोना वायरस के कारण मौतों का आंकड़ा भी लगातार बढ़ता ही जा रहा है. इस बीच अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पीएम मोदी से बातचीत की.
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन टेबलेट्स मुहैया करवाने का अनुरोध किया है. साथ ही पीएम नरेंद्र मोदी से अमेरिका के हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन ऑर्डर को जल्द रिलीज करने के लिए कहा है.

अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, ‘भारत बड़ी मात्रा में इस दवा को बनाता है. भारत की जनसंख्या 1 अरब से ज्यादा है. उन्हें अपने लोगों के लिए भी इसकी जरूरत होगी. मैंने पीएम मोदी से कहा है कि अगर वो हमारे ऑर्डर को भेजते हैं तो मैं आभारी रहूंगा.’ दरअसल, हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन का इस्तेमाल कोरोना मरीजों के इलाज में किया जा रहा है.

अमेरिका में कोरोना से तबाही, एक दिन के अंदर अब तक सबसे ज्यादा मौत

चीन के वुहान से फैला कोरोना वायरस अब अमेरिका में तबाही मचा रहा है. अमेरिका में कोरोना वायरस के कारण संक्रमित लोगों का आंकड़ा 3 लाख के करीब पहुंच रहा है.
कोरोना वायरस के कारण पूरी दुनिया में हाहाकार मचा हुआ है. दुनिया के कई देश कोरोना वायरस की चपेट में है. वहीं अब कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा संक्रमित मरीज अमेरिका में हैं. इस बीच अमेरिका में कोरोना वायरस के कारण 24 घंटे में 1400 से ज्यादा मौतें दर्ज की गई हैं.
चीन के वुहान से फैला कोरोना वायरस अब अमेरिका में तबाही मचा रहा है. अमेरिका में कोरोना वायरस के कारण संक्रमित लोगों का आंकड़ा 3 लाख के करीब पहुंच रहा है. यह आंकड़ा विश्व में अब तक सबसे ज्यादा है. वहीं कोरोना वायरस के कारण दुनिया में 24 घंटे में हुई सबसे ज्यादा मौतें अमेरिका में दर्ज की गई हैं.

कोरोना महामारी का अंधकार मिटाने के लिए आज दीप जलाएगा देश, पीएम मोदी ने की थी अपील

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश वीडियो संदेश में कहा था कि कोरोना के अंधकार को प्रकाश की ताकत से हराने की जरूरत है. इसके लिए प्रधानमंत्री ने लोगों से रविवार को रात नौ बजे नौ मिनट तक दीया जलाने की अपील की.
देश में कोरोना वायरस का संकट बढ़ता जा रहा है. संकट के इस वक्त में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से एकजुटता का संदेश देने के लिए 5 अप्रैल को लाइटें बंद रखने का आह्वान किया. ऐसे में देश की जनता भी आज रात दीया, मोमबत्ती और मोबाइल की फ्लैश लाइट जलाकर एकजुटता दिखाने को तैयार है.

कोरोना संकट के चलते देश में 21 दिनों तक लागू किए गए लॉकडाउन के दौरान शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को वीडियो संदेश दिया था. प्रधानमंत्री ने देशवासियों से अपील करते हुए कहा कि कोरोना के अंधकार को प्रकाश की ताकत से हराने की जरूरत है. इसके लिए प्रधानमंत्री ने लोगों से रविवार को रात नौ बजे नौ मिनट तक दीया जलाने की अपील की, इसका मकसद एकजुटता का संदेश देने से है.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपील की थी कि 5 अप्रैल रविवार को रात नौ बजे नौ मिनट के लिए लोग अपने घरों की लाइटें बंद करें और दरवाजे-खिड़की पर खड़े होकर दीया, मोमबत्ती जलाएं या फिर मोबाइल की फ्लैश लाइट-टॉर्च से रोशनी करें. इस शक्ति के जरिए हम ये संदेश देना चाहते हैं कि देशवासी एकजुट हैं. पीएम ने कहा कि एकजुटता के दमपर ही इस महामारी को मात दी जा सकती है.

इंदौर के जिस इलाके में डॉक्टरों पर हुआ था हमला, वहां निकले कोरोना के 10 संक्रमित

इंदौर का यह वही इलाका है जहां 1 अप्रैल को स्क्रीनिंग करने गई स्वास्थ्य विभाग की टीम पर पथराव हुआ था जिसके बाद देश भर में घटना की निंदा हुई थी. बाद में डॉक्टरों पर हमला करने वालों पर कलेक्टर ने रासुका लगाकर जेल भेज दिया था.
मध्य प्रदेश के इंदौर में जिस टाटपट्टी बाखल इलाके में कोरोना संदिग्ध को देखने गए डॉक्टरों की टीम पर पत्थरबाजी हुई थी, उसी इलाके से कोरोना के 10 पॉजिटिव मरीज निकले हैं. यह वही इलाका है जहां 1 अप्रैल को स्वास्थ्यकर्मियों की टीम पर लोगों ने पथराव किया था.

स्वास्थ्य विभाग की ओर से देर रात जारी किए गए मेडिकल बुलेटिन के अनुसार 3 और 4 अप्रैल को भेजे गए सैंपल में से 16 पॉजिटिव मरीज पाए गए हैं. 16 में से 10 लोग इसी टाटपट्टी बाखल इलाके के हैं जहां पर पत्थरबाजी हुई थी. इनमें 5 पुरुष और 5 महिलाएं हैं. इनकी उम्र 29 साल से 60 साल तक है.

डॉक्टरों की टीम पर हुआ था हमला

इंदौर का यह वही इलाका है जहां 1 अप्रैल को स्क्रीनिंग करने गई स्वास्थ्य विभाग की टीम पर पथराव हुआ था जिसके बाद देश भर में घटना की निंदा हुई थी. बाद में डॉक्टरों पर हमला करने वालों पर कलेक्टर ने रासुका लगाकर जेल भेज दिया था.
इस बीच, गृह मंत्रालय ने डॉक्टरों और उनकी टीम की सुरक्षा को लेकर राज्यों को खत लिखा है. गृह मंत्रालय ने राज्य सरकारों को पत्र लिखकर कहा है कि जो लोग स्वास्थ्य सेवाओं में काम कर रहे हैं, उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करें. पत्र में स्वास्थ्य और सीमावर्ती श्रमिकों पर हमले के मामलों में सख्त कार्रवाई करने के बारे में भी लिखा है. ये जानकारी गृह मंत्रालय की संयुक्‍त सचिव पुण्‍य सलिला श्रीवास्‍तव ने दी.
सिर्फ इंदौर ही नहीं, बीते दिनों देश के कई शहरों से इस तरह के मामले सामने आए थे. खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस पर चिंता व्यक्त की थी और कहा था कि जो लोग संकट की घड़ी में भगवान के रूप में हमारे लिए काम कर रहे हैं, उनके साथ इस तरह का व्यवहार करना बिल्कुल गलत है. यूपी से लेकर बिहार तक और अन्य राज्यों में भी डॉक्टरों की टीम पर हमले की खबर है. तेलंगाना में भी एक मरीज के परिजनों ने डॉक्टरों पर हमला बोल दिया था जिसके बाद वहां की सरकार ने कड़ी कार्रवाई करते हुए मामला दर्ज किया था.

व्यापक स्तर पर मनाया गया संविधान दिवस न्यायालय परिसर स्थित बार रूम में हुआ जिला स्तरीय कार्यक्रम 

तेज़ एक्सप्रेस न्यूज़ – प्रदीप पाल
हनुमानगढ़ / राजस्थान

संविधान दिवस मंगलवार को जिले भर में व्यापक स्तर पर मनाया गया। जिला स्तरीय कार्यक्रम न्यायालय परिसर स्थित बार रूम में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, बार संघ, प्रशासन व पुलिस की ओर से संयुक्त रूप से आयोजित किया गया। जिसमें संविधान के महत्वपूर्ण तथ्यों पर प्रकाश डाला गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला एवं सेशन न्यायाधीश एव अध्यक्ष, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण ज्ञानप्रकाश गुप्ता ने की। मुख्य अतिथि जिला कलक्टर जाकिर हुसैन, विशिष्ट अतिथि पुलिस अधीक्षक श्रीमती राशि डोगरा थी। इस कार्यक्रम में एनडीपीएस जज विरेन्द्र कुमार जसूजा, पोक्सो जज मशरूर आलम खान, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सुश्री आशा चौधरी, एमजेएम श्रीमती अनुभूति मिश्रा, ग्राम न्यायाधिकारी सुश्री सुमन चौधरी, सीएमएचओ अरूण कुमार,सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी सुरेश बिश्नोई, एडीईओ रणवीर शर्मा, बार संघ अध्यक्ष जितेन्द्र सारस्वत व अधिवक्तागण उपस्थित थे। मंच संचालन अधिवक्ता रमेश मोदी द्वारा किया गया।
जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष ज्ञानप्रकाश गुप्ता ने संविधान के विभिन्न प्रावधानों को विस्तृत रूप से बताया। संविधान अंगीकृत करने के बावजूद देरी से क्यों लागू हुआ, इसका कारण बताया और प्रत्येक नागरिक द्वारा मौलिक कर्तव्यों की पालना किये जाने के लिए आह्वान किया। उन्होंने संविधान के प्रावधानों की पालना करने की सभी को शपथ दिलाई। मुख्य अतिथि जिला कलक्टर जाकिर हुसैन ने वर्तमान हालात व देश की विभिन्नताओं को एक सूत्र में पिरोने के लिए संविधान के प्रावधानों की पालना करने और संविधान के प्रति आस्था रखने की बात कही। विशिष्ट अतिथि श्रीमती राशि डोगरा एस.पी. ने संविधान के महत्वपूर्ण बिंदुओं पर प्रकाश डाला और संविधान को उसकी भावना के अनुरूप आत्मसार करने की बात कही।
स्थाई लोक अदालत के अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने पं. ज्वाहरलाल नेहरू का परिचय देते हुए संविधान के प्रस्तावना की पूर्ण रूप से व्याख्या की। संविधान के प्रति संसद का योगदान के बारे में बताया तथा यह कहा कि यदि संविधान अच्छा है, परन्तु लोग बुरे है तो संविधान सही रूप से कार्य नहीं करेगा और यदि संविधान बुरा है और उसे लागू करने वाले लोग सही है तो बुरा संविधान भी अच्छा संविधान बन जायेगा। सतपाल लिम्बा, अधिवक्ता ने मूल कर्तव्यों के बारे में बताते हुए हमारे आस-पास साफ-सफाई रखना भी हमारा कर्तव्य है, के बारे में बताया। शंकर सोनी, अधिवक्ता ने अभिव्यक्ति के अधिकार के बारे में बताया। महावीर स्वामी ने संविधान लागू होने से पूर्व के प्रशासन के बारे में बताते हुए वर्तमान में लागू संविधान के बारे में बताया। कार्यक्रम के अंत में सुश्री आशा चौधरी, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट व बार संघ सचिव योगेश झोरड़ द्वारा उपस्थित अधिकारीगण एवं अधिवक्तागण को धन्यावाद ज्ञापित किया गया और अंत में सभी ने शपथ पत्र पर हस्ताक्षर किये। उसके पश्चात् माननीय डीजे साहब द्वारा उक्त कार्यक्रम में संविधान से संबंधित प्रश्नोत्तरी का आयोजन किया गया।
इससे पहले कार्यक्रम की शुरूआत जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव विजय प्रकाश सोनी ने संविधान दिवस की पूरी रूपरेखा बताते हुए की । उन्होने बताया कि 29 नवंबर 1949 को संविधान सभा द्वारा संविधान को अंगीकृत करने के 70वें वर्षगांठ के अवसर पर भारत सरकार ,सर्वोच्च न्यायालय, राजस्थान सरकार, राजस्थान उच्च न्यायालय और राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार संविधान दिवस को सभी के साथ जिला स्तर पर कार्यक्रम आयोजित करके मनाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि संविधान दिवस के 70वीं वर्षगांठ होने के कारण दिनांक 26.11.2019 से 02.12.2019 तक विशेष सप्ताह का आयोजन किया जाएगा, जिसमें पैनल अधिवक्ता, पीएलवी, विधि के विद्यार्थी, एनजीओ, न्यायिक अधिकारी, लीगल लिटरेसी क्लब के इंचार्ज, विधिक सेवा क्लिनिक पर स्थित इंचार्ज, शिक्षक, ग्राम सचिव आदि विभिन्न माध्यमों के जरिये संविधान की प्रस्तावना व मूल कर्तव्यों का वाचन करके संविधान की मुख्य विशेषताओं को बताकर व्यापक व वृहद स्तर पर संविधान दिवस को मनाया जाना है। संविधान की प्रस्तावना व मूल कर्तव्यों और संविधान के बनने की रूपरेखा व भूमिका व इतिहास के बारे में विस्तृत रूप से बताया।
संविधान दिवस पर रैली का आयोजन- जिला स्तरीय कार्यक्रम के बाद न्यायालय परिसर में ही मदान इन्टरनेशनल स्कूल के विद्यार्थियों द्वारा रैली का आयोजन किया गया और नारे लगाये गए। इस अवसर पर संविधान की पालना करने की शपथ ली और हस्ताक्षर किये। रैली में शामिल विद्यार्थियों को न्यायालय की प्रक्रिया और जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के कार्यक्षेत्र व किये जाने वाले कार्यों की जानकारी दी गई।
न्यायाधीशों ने स्कूल में जाकर संविधान की प्रस्तावना और मूल कर्त्तव्यों के बारे में बताया- संविधान दिवस के अवसर पर विभिन्न न्यायिक अधिकारियों ने स्कूलों में जाकर संविधान की प्रस्तावना व मूल कर्तव्यों के बारे में बताया व संविधान की पालना की शपथ दिलाई। एडीजे नं. 2 सत्यपाल वर्मा ने सेठ हंसराज स्कूल में, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सुश्री आशा चौधरी ने नेशनल पब्लिक स्कूल, एमजेएम श्रीमती अनुभूमि मिश्रा ने संस्कार इंटरनेशनल स्कूल में जाकर, एएमजेएम सुश्री राधिका सिंह चारण ने अमृत मॉडल कॉन्वेट स्कूल में जाकर और ग्राम न्यायालय की न्यायाधिकारी सुश्री सुमन चौधरी ने लिटिल हार्ट पब्लिक स्कूल में जाकर संविधान की प्रस्तावना व मूल कर्तव्यों के बारे में बताया। इसके अलावा पैनल अधिवक्ता व पीएलवी ने भी स्कूल, कॉलेज, शैक्षणिक संस्थाओं, पंचायत समिति, ग्राम पंचायत में जाकर संविधान के प्रति व्यक्तियों की आस्था बनाये रखने और संविधान दिवस पर प्रकाश डाला। छात्रावास में भी यह कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव श्री विजय प्रकाश सोनी ने बताया कि इस प्रकार के कार्यक्रमों के जरिये 2 लाख व्यक्ति तक पहुंचने का लक्ष्य रखा है।

SC के फैसले से पहले राम मंदिर का काम हुआ पूरा, अयोध्या में ऐसी चल रही हैं तैयारियां

तेज़ एक्सप्रेस न्यूज़ – विष्णु गुप्ता

राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले से पहले अयोध्या में तैयारी पूरी कर ली गई है. 18 अक्टूबर को राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट अपना फैसला सुनाएगा और इसी के साथ शहर के लोगों ने अपनी कमर कस ली है. इस बार अयोध्या की दीवाली और भी खास होने वाली है. सुप्रीम कोर्ट से अगर राम मंदिर के पक्ष में फ़ैसला आता है तो राम मंदिर निर्माण में साधु संत देरी नहीं करेंगे. दीवाली से पहले राम मंदिर पर आने वाले फैसले से भी लोगों को बड़ी खुशी मिल सकती है.

इसी कड़ी में राम मंदिर के गर्भगृह के पत्थर तराशने का काम पूरा हो गया है जहां रामलला विराजमान होंगे उस हिस्से के पत्थर तराशी का कार्य पूरा हो गया है. मंदिर के ग्राउंड फ़्लोर के सभी पत्थर तराशे जा चुके हैं. वहीं प्रस्तावित 2 फ़्लोर के राम मंदिर के 70 फ़ीसदी पत्थर तराशी का कार्य पूरा, शेष 30 फ़ीसदी भी जल्द पूरा हो जाएगा.

इतना ही नहीं इस बार अयोध्या की दीपावली और भी ज्यादा जगमग होने वाली है. सिर्फ राम की पैड़ी पर दीये नहीं जलेंगे बल्कि पूरी रामनगरी में तीन दिन तक हर घर में जलेंगे दीये. यानी 24, 25 और 26 अक्टूबर को अयोध्या को रोशन करने के लिए प्रशासन और लोगों ने पूरी तैयारी कर ली है. इस बार गुप्तारघाट, भरतकुंड समेत अयोध्या के 13 प्रमुख मंदिरों में तीन दिनों तक हर दिन 5001 दीये जलेंगे. इसके अलावा अयोध्या के सभी 10 हजार मंदिरों और घरों में भी दीये जलाए जाएंगे. जिला प्रशासन, अयोध्या नगर निगम और शहर के बड़े शैक्षणिक संस्थान इस मुहिम में जुट गए हैं.