मुख्यमंत्री योगी बोले- 27 मार्च तक पूरे यूपी में लॉकडाउन, कर्फ्यू लगाने का फैसला जिला अधिकारी लेंगे

तेज एक्सप्रेस न्यूज़ /संदीप अग्रहरि/ संतोष मिश्रा
लखनऊ. कोरोनावायरस (Coronavirus) के संक्रमण को स्टेज थ्री तक पहुंचने से रोकने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने कड़े कदम उठाए हैं. मंगलवार को कोरोनावायरस के बारे में सरकार की तैयारियों की जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि बुधवार से 27 मार्च तक पूरे प्रदेश में लॉकडाउन (Lockdown) रहेगा. मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि वे अपने घरों में ही रहें और किसी भी तरह की पैनिक न फैलाएं. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के दौरान संबंधित अधिकारी सख्ती से फैसला लें. कर्फ्यू लगाने का फैसला जिले डीएम के पास होगा. अगर उन्हें जरूरत पड़ती है तो वे कर्फ्यू लगा सकते हैं.

मोहल्लों तक पहुंचाई जाए सब्जी व खाद्य पदार्थों की वैन

ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि लोग सब्जी मंडी या फिर किराना व दावा की दुकानों पर अनावश्यक भीड़ न लगाएं. दो से ज्यादा लोग कहीं भी इकठ्ठा न हों. उन्होंने कहा कि कृषि प्रमुख सचिव से कहा गया है कि लोगों को घरों से बाहर न निकलना पड़े और मंडियों में भीड़ न लगे. लिहाजा उनके मोहल्लों में ही सभी चीजें मुहैया करवाई जाए. उन्होंने जनता से अपील की कि इस दौरान ऐसा न हो कि लोग ज्यादा चीजें खरीद लें. सभी को सिमित सप्लाई की जाए. मुख्यमंत्री ने साथ ही कहा कि किसी भी कीमत पर कालाबाजारी न हो.

सख्त कार्रवाई से बचने के लिए सहयोग करें

मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों से अपील की है कि 23 करोड़ की जनता को इस महामारी से बचाने के लिए सख्त कदम उठाए जा रहे हैं. लोगों अनुरोध है कि वे अपना-अपना सहयोग दें. सरकार पूरी तरह से तैयार है. किसी भी तरह की कमी नहीं है. मानवता की सेवा के लिए सभी योगदान करें. उन्होंने अधिकारियों से कहा कि किसी भी कीमत पर जमाखोरी, कालाबाजारी और अधिक मूल्यों पर सामान न बिकने पाए. मुख्यमंत्री ने व्यापारियों से भी सहयोग की अपील की है. उन्होंने कहा कि लोग ऐसा कुछ भी न करें कि सख्त कार्रवाई करनी पड़े.

एक लाख से ज्यादा लोग यूपी में आए

मुख्यमंत्री ने जानकारी देते हुए बताया कि स्थिति काफी गंभीर है. करीब एक लाख से ज्यादा लोग विदेशों से या फिर अन्य राज्यों से प्रदेश में आए हैं. वे लोग कहां हैं कैसे हैं इसकी जानकारी लगाई जा रही है. लिहाजा सरकार को लॉकडाउन जैसे सख्त कदम उठाए जा रहे हैं.