मुंबई -कंगना-बीएमसी विवाद: बॉम्बे हाई कोर्ट का आदेश, ‘संजय राउत को बताना होगा कि उन्होंने किसे कहा था हरामखोर’

तेज एक्सप्रेस न्यूज़ विष्णु गुप्ता संतोष मिश्रा

मुंबई
फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत के दफ्तर तोड़े जाने के मामले में बॉम्बे हाई कोर्ट में तीखी बहस हुई। कोर्ट की सुनवाई के दौरान विवादित शब्द ‘हरामखोर’ भी गूंजा। इस पर कोर्ट ने कहा कि संजय राउत को यह बताना होगा कि उन्होंने यह शब्द किसके लिए इस्तेमाल किया था। कोर्ट की सुनवाई 3 बजे दोबारा शुरू हो गई है।

बीएमसी बोली- यह गैरकानूनी निर्माण का केस
वहीं बीएमसी के वकील ने कोर्ट में कहा, ‘याचिका इस तरह से पेश की गई है जिससे लग रहा है कि व्यक्ति विशेष के सरकार और सत्तारूढ़ दल के खिलाफ सार्वजनिक रूप से बोलने से उन पर उत्पीड़न हुआ है। सच्चाई इससे थोड़ी अलग है। यह एक ऐसा मामला है जहां याचिकाकर्ता ने गैरकानूनी रूप से अवैध निर्माण किए हैं।’

कोर्ट में सुनाई राउत की विवादित ऑडियो क्लिप
कंगना के वकील ने इस पर कहा, ‘कंगना ने सरकार के खिलाफ कुछ बयान दिए थे और उनके एक ट्वीट पर संजय राउत की बहुत तीखी प्रतिक्रिया आई थी। राउत ने कहा था कि कंगना को सबक सिखाना होगा।’ साथ ही कोर्ट में कंगना के वकील बिरेंद्र सराफ ने संजय राउत के उस बयान का विडियो क्लिप प्ले किया जिसमें उन्होंने ‘हरामखोर’ शब्द बोला था।

कोर्ट ने पूछा- क्या राउत का बयान रेकॉर्ड कर सकते हैं?
इस पर संजय राउत के वकील ने कहा, ‘मेरे क्लायंट ने किसी का नाम नहीं लिया। कोर्ट ने राउत के वकील प्रदीप थोराट से पूछा, ‘अगर संजय राउत कह रहें हैं कि उन्होंने कंगना के लिए यह शब्द इस्तेमाल नहीं किया, तो क्या हम इस बयान को रेकॉर्ड कर सकते हैं?’ राउत के वकील बोले, ‘मैं इसपर अपना एफिडेविट कल फाइल करूंगा।’